medhak ka dard story in hindi- मेढक का दर्द कहानी

0
130
medhak ka dard
medhak ka dard

मेढक का दर्द – medhak ka dard

.टन . टन .टन की आवाज के साथ घंटाघर ने रात के तीन बजने की सूचना दी । बारिश के दिन होने के बावजूद बारिश नहीं होने से उमस बढ़ गई थी अतः मुझे नींद भी नहीं आ रही थी ।

मैं करवट बदल कर सोने की कोशिश कर रहा था तभी किसी के रोने सिसकने की आवाज सुनाई दी । मैं बिस्तर से उठ कर हाथ में डंडा और टॉर्च लेकर सिसकने की दिशा में चल पड़ा ।

 

आगे जाकर मैंने देखा कि तुलसी के चौरा के कोने में दुबका हुआ एक मेंढक सिसक रहा था । मैंने पूछा क्यों रो रहे हो मेंढक भैया ? उत्तर में वह शरीर को फुलाते हुए बोल पड़ा- मेरे माथे में भरे हुये सिंदूर को देखकर इतना भी समझ में नहीं आया कि मैं मेंढक नहीं , मेंढकी हूं ।  

 

मैं भौंचक होकर पूछ पड़ा अरे तुम्हारे शरीर में किसने और क्यों सिंदूर लगा दिया ? मेरा प्रश्न सुनकर वह व्यंगात्मक भरे लहजे में बोली – तुम्हारे ही मानव समाज के लोगों ने मेरा जबरीया विवाह एक मेंढक के साथ आज कर दिया और उन्हीं अज्ञानियों ने मेरी मांग एवं शरीर को सिंदूर से भर डाला ।

मेढक का दर्द – medhak ka dard

दरअसल बारिश के दिन में जब बारिश नहीं होती है तो बहुत से अंधविश्वासी इंसान – ऐसी बेतुकी हरकत करते हैं । मानव समाज में ऐसी गलत धारणा प्रचलित है कि पानी नहीं गिरने पर मेंढक – मेंढकी का ब्याह करा देने से वर्षा होती है

 

मेंढकी की बुरी दशा देखकर मैं सोच में पड़ गया । आगे कुछ कह पाता उसके पहले ही वह अपने शरीर में पड़े सिंदूर को गिराने के लिए शरीर को जोर – जोर से हिलाने लगी ।

उसकी यह हरकत देखकर मैंने साहस करके पूछा – इस तरह अपने शरीर को जोर – जोर से क्यों हिला रही हो ?   मेरे इस सवाल पर वह पुनः पूरी ताकत लगाकर अपने शरीर को फूलाकर गुस्सा व्यक्त करते हुए बोली मानव समाज तो अपनी बेटा – बेटियों का ब्याह बड़ा सोच विचार करके करता है एक ही जाति , धर्म में ही करता है फिर मेरा विवाह अपने अंधविश्वास और स्वार्थवश क्यों तुम लोगों ने एक विवाहित शराबी मेंढक से कर दिया ।  

 

वह कुछ देर शांत रहकर रोते हुए फिर बोली कि शायद तुम्हे यह भी नहीं पता कि मैं पहले से ही विवाहित हूं । मेरे छोटे – छोटे बच्चे है । अब तुम्हीं बताओ मैं कहां जाऊं मेरी दशा तो धोबी का कुत्ता घर का न घाट का जैसी हो गयी है ।

 

मेंढकी की बातें सुन – सुनकर मुझे अपने मनुष्य होने पर शर्म आ रही थी । मुझे सूझ नहीं रहा था कि उसका दुख मैं किन शब्दों में व्यक्त करूँ । आगे उसे कुछ बोल पाता उसके पहले वह तड़फने लग गयी ।

 

मैंने उसे हाथ से सहलाने की कोशिश की तो उसने मेरे हाथ को झटक दिया और बिफर कर बोली तुम्हें यह तो पता होगा कि मेंढक – मेंढकी अपनी त्वचा से सांस लेते हैं । मेरी त्वचा में रासायनिक पदार्थ सिंदूर को भर डाला है ,

 

अतः मुझे सांस लेने में दिक्कत हो रही । अपनी बात को मेंढकी पूरा न कर सकी और उसकी सांसें रुक गयीं । मेंढकी की पीड़ा और उसकी मृत्यु ने मुझे विचार शून्य बना दिया ।

मेरे हाथ से टॉर्च छूट कर जमीन पर जा गिरी । इससे टॉर्च का काँच का बल्ब टूट कर बिखर गया और मेरे चारों ओर घना अंधेरा छा गया । घुप्प अंधकार में खड़ा मैं सोचने लगा मानों मेंढकी संदेश दे रही है कि पशु – पक्षियों व पेड़ – पौधों के साथ अत्याचार करने पर मानव समुदाय की जिंदगी ऐसे ही अंधकारमय हो जायेगी । मानव हित में बरसने वाले बादल भी बैरी बन जायेंगे । वर्षा चाहिये तो पेड़ – पौधा रोपे और प्रकृति की हिफाजत करते हुये धरा को हरा – भरा बनायें पशु – पक्षियों को मित्र बनाने का काम करें ।  

चन्द्रमाँ के बारे में 30 + रोचक तथ्य

Internet के बारे में 50+ रोचक तथ्य

 

Note – दोस्तो आपको मेढक की कहानी लेख कैसा लगा Comment करके जरूर बताएं और अगर इस लेख के बारे मे आपके मन मे कोई भी सवाल हो तो हमे Comment करके बताये और यदि आपके पास इस कहानी से सबंधित कोई जानकारी हो तो हमे Mail कीजिये अगर आप इस लेख के बारे में हमे कोई सुझाव देना चाहते हो तो comment करके जरूर बताएं और इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे

 

!हमारी वेबसाइट विजिट करने के लिए बहुत बहुत “धन्यवाद”

Gazabjankari.com

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो शेयर करे और अपने दोस्तों को बताना न भूलें धन्यवाद!

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here