कीबोर्ड क्या है और कितने प्रकार के होते है? (जाने आसान भाषा में)

आज के टेक्नोलॉजी वर्ल्ड में कम्प्यूटर सभी लोग इस्तेमाल करते है और कम्प्यूटर use करना सभी को आना भी चाहिए,कम्प्यूटर अनेक हार्डवेयर पार्ट से बनता है जैसे की कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर इत्यादि। आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे की कीबोर्ड क्या है?

कीबोर्ड कम्प्यूटर का एक हार्डवेयर डिवाइस है जिससे यूजर कम्प्यूटर को इनपुट प्रदान करता है और उस इनपुट को कम्प्यूटर प्रोसेसिंग करके उसका आउटपुट मॉनिटर के जरिये यूजर को उपलब्ध करवाता है। कीबोर्ड कम्प्यूटर का एक अभिन्न अंग है। 

कीबोर्ड द्वारा कम्प्यूटर को कोई भी इनपुट देने के लिए कीबोर्ड पर यूजर के लिए सभी 26 अल्फाबेट, नुम्बेरीक नंबर, स्पेशल करैक्टर और फंक्शन keys होती है जिससे यूजर कोई भी प्रकार के डेटा को कम्प्यूटर को कमांड कर सकता है। 

कीबोर्ड क्या है

क्या है 1

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जिसकी मदद से कोई यूजर उस पर इनपुट या टाइप करता है और वो इनपुट प्रोसेस होने के बाद किसी आउटपुट डिवाइस पर उसका आउटपुट प्राप्त होता है

कीबोर्ड कम्प्यूटर का हार्डवेयर डिवाइस है जिसे CPU से कनेक्ट किया जाता है। बिना कीबोर्ड के हम कम्प्यूटर पर कोई भी काम नहीं कर सकते। यह कम्प्यूटर का एक अभिन्न अंग है।

कम्प्यूटर का मुख्य उपयोग कम्प्यूटर में टेक्स्ट, न्यूमेरिकल डेटा और दूसरे अन्य प्रकार के डेटा को इनपुट करने के लिए किया जाता है। कम्प्यूटर से कम्यूनिकेट करने के लिए यूजर कीबोर्ड, माउस जैसे उपकरणो का इस्तेमाल करता है।

कीबोर्ड द्वारा इनपुट की गए डेटा को सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट द्वारा प्रोसेस करके उसको कम्प्यूटर लैंग्वेज में कन्वर्ट किया जाता है और उसका आउटपुट हमें मॉनिटर पर दिखाया जाता है। 

कीबोर्ड कैसे काम करता है

कीबोर्ड को कम्प्यूटर से केबल के जरिये कनेक्ट किया जाता है, USB फीचर वाले कीबोर्ड आने से पहले वैसे पुराने कीबोर्ड में PS2 सीरियल कनेक्टर केबल के जरिये कनेक्ट किया जाता है

लेकिन टेक्नोलॉजी में उपग्रडेशन आने के बाद सीरियल कनेक्टर वाले कीबोर्ड का इस्तेमाल लोगो द्वारा कम होने लगा और USB वाले कीबोर्ड का लोग ज्यादा इस्तेमाल करने लगे। अभी आपके मन में एक सवाल आता होगा की आखिर ये कीबोर्ड काम कैसे करता है। 

कीबोर्ड के अदंर एक प्रोसेसर और सर्किट होता है यह सर्किट एक key मैट्रिक्स बनाते है जिसकी मदद से यह यूजर द्वारा प्रेस किये गए बटन की जानकारी को कीबोर्ड के प्रोसेसर तक पोहोचाते है।

Key मैट्रिक्स की अगर हम बात करे तो इसकी बनावट जालीदार होती है, हर बटन के निचे एक सर्किट होता है जो आधा टुटा हुआ होता है, जभी यूजर कोई key प्रेस करता है उस बटन के निचे लगा हुआ स्विच उस सर्किट उसे पूरा करता है

जिसकी वजहसे उसमे हल्का सा विद्युत् का प्रवाह होता है , जभी यूजर कोई बटन दबाता है उस से वाइब्रेशन पैदा होती है जिसे बाउंस कहते है।

जब कीबोर्ड प्रोसेसर को पूर्ण सर्किट प्राप्त हो जाता है तब वह ROM में एक character चार्ट बनाता है ,यह प्रोसेसर को इन्फॉर्म करता है की कीबोर्ड में कौनसा बटन दबाया गया है और वह कौनसे स्थान पर स्थित है। इस तरह से कीबोर्ड काम करता है।  

कीबोर्ड के प्रकार

मार्किट में अलग अलग प्रकार के कीबोर्ड अवेलेबल है जिनको रीजन और लैंग्वेज के हिसाबसे बनाया जाता है।

कीबोर्ड के बहुत सारे प्रकार है जैसे की QWERTY, AZERTY, DVORAK, Ergonomic, Apple Desktop Bus, Scissor Switch, Flat Panel Membrane, Direct Switch Keyboard, Arc, Compact, इन्टरनेट, गामिंग कीबोर्ड इत्यादि। इन सभी कीबोर्ड के बारेमे हम विस्तार से जानेंगे। 

QWERTY

Querty कीपैड दुनिया में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है और इसी प्रकार का लेआउट आपको ज्यादातर कीबोर्ड में देखने को मिलता होगा। 

Multimedia Keyboard

मल्टीमीडिया कीबोर्ड में ज्यादातर मल्टीमीडिया बटन्स ज्यादा होते है जैसे की play, pause, previous, next, volume up, volume down, mute इत्यादि।

साथ ही में इसमें ब्राउज़र, माय कम्प्यूटर और कैलकुलेटर को लांच करने के लिए स्पेशल बटन भी available होते है। 

Wireless Keyboard

वायरलेस कीबोर्ड को कम्प्यूटर के साथ कनेक्ट करने के लिए वायर की जरुरत नहीं पड़ती, इन कीबोर्ड के साथ एक ब्लूटूथ डिवाइस आता है जिसे सिर्फ कम्प्यूटर के usb पोर्ट में कनेक्ट करना होता है उसके बाद यह कीबोर्ड काम करता है।

इस प्रकार के कीबोर्ड में ब्लूटूथ, IR टेक्नोलॉजी, और रेडियो frequency का उपयोग किया जाता है। यह कीबोर्ड वजन में हलके होते है और साइज में भी काफी छोटे होते है। 

Virtual Keyboard

जिन कीबोर्ड का उपयोग मोबाइल तथा टचस्क्रीन डिवाइस में होता है उस प्रकार के कीबोर्ड को वर्चुअल कीबोर्ड कहा जाता है। यह कीबोर्ड जब यूजर को टाइपिंग की जरुरत होती है तभी appear होते है

और जैसे ही यूजर की requirements full fill हो जाती है वैसे ही गायब होजाते है। वर्चुअल कीबोर्ड को physically carry करने की कोई आवश्यकता नहीं है। 

USB Keyboard

यूनिवर्सल सीरियल बस (USB) इस प्रकार के कीबोर्ड usb वायर के साथ आते है, इन कीबोर्ड के वायर usb पोर्ट में इन्सर्ट करके कनेक्ट करना होता है। आज कल सबसे ज्यादा इस प्रकार के कीबोर्ड का ज्यादा इस्तेमाल होता है। 

Gaming Keyboard

गेमिंग कीबोर्ड को खास तरीके से सिर्फ और सिर्फ गेम खेलने वालो के लिए बनाया जाता है, इन कीबोर्ड में आपको ज्यादा keys देखने को नहीं मिलेगी इनमे सिर्फ W,S,D,A और arrow keys को ज्यादा हाईलाइट किया जाता है

साथ ही में इनमे ग्राफिकल डिज़ाइन की जाती है ताकि यह एक प्रॉपर गेमिंग कीबोर्ड लग सके। गेमिंग कीबोर्ड आम कीबोर्ड से थोड़े मेहेंगे आते है। 

Backlit Keyboard

इस प्रकार के कीबोर्ड में बैकग्राउंड लाइट का इस्तेमाल किया जाता है जिससे यूजर को अँधेरे में भी काम करने में कोई परेशानी ना हो सके। 

Keyboard के कुछ Shortcut Keys

अगर आप माउस का इस्तेमाल जितना होसके उतना काम करना चाहते है तो आपको उस टाइम शॉर्टकट key मददरूप साबित होती है, शॉर्टकट key के माध्यम से आप कम्प्यूटर के कोई भी फोल्डर या फाइल्स को एक्सेस कर सकते है। 

ShortcutUsage
Ctrl + APage के सभी content को एक साथ में  select करने के लिए
Ctrl + CSelect किये गए text को या फिर कोई भी फाइल, डाक्यूमेंट्स, फोल्डर को  copy करने के लिए
Ctrl + Dइंटरनेट ब्राउज़र में ओपन page को bookmark करने के लिए
Ctrl + Fखुले हुए document पर find box को open करती है
Ctrl + ISelect किये गए text को italics font में convert करती है
Ctrl + KSelected text में hyperlink insert करने के लिए use की जाती है
Ctrl + Nकोई भी प्रकार का new document ओपन करती है
Ctrl + Oनई फाइल open करने के लिए
Ctrl + PDocument के खुले हुए page को print करने के लिए
Ctrl + SDocument को save करने के लिए
Ctrl + USelect किये गए text को underline करने के लिए
Ctrl + VCopy किये गए item को पेस्ट करती है
Ctrl + XSelect किये गए text या फिर कोई फाइल, फोल्डर को मूव कर देती है, मतलब की cut कर देती है
Ctrl + Yपिछले action को दोहराती है
Ctrl + Zअपनी अंतिम क्रिया को उलटने (undo) के लिए
Alt + FOpen किये गए program में file menu के ऑप्शन को खोल देती है
Alt + EOpen किये गए program में edit menu के ऑप्शन को खोल देती है
Alt + F4Open किये गए program को बंद कर देती है
Alt + Tabओपन किये गए सभी टास्क को या फिर विभिन्न applications या program को स्विच कर सकते हैं
Ctrl + Endखोले गए document के अंत (End) में पंहुचा देती है
Ctrl + DelSelect किये गए item को delete कर देती है
Ctrl + InsSelect किये गए item को Copy कर देती है
Ctrl + Homeखोले गए document की शुरुआत (Beginning) में पंहुचा देती है
Ctrl + (Left arrow)एक समय में एक शब्द को बाईं (Left) ओर ले जाता है
Ctrl + (Right arrow)एक समय में एक शब्द को दायीं (Right) ओर ले जाता है
Shift + InsCopy किये गए item को पेस्ट करती है
Shift + HomeCursor की वर्तमान स्थिति से लाइन की शुरुआत तक highlight कर देती है
Ctrl + Shift + EscWindow के task manager को open करने के लिए
Shift + EndCursor की वर्तमान स्थिति से लाइन के अंत तक highlight कर देती है

Keys के प्रकार और उनके कार्य?

कम्प्यूटर पर किये जानेवाले कार्यो मेसे कित्येक कार्य ऐसे होते है जिनको कीबोर्ड के जरिये किया जाता है जिसमे माउस की जरुरत ही नहीं पड़ती, फंक्शन key और कण्ट्रोल kay के माध्यम से वह सभी कार्य हो जाते है जो कार्य माउस द्वारे किये जाते है। 

Function Keys

फंक्शन key कीबोर्ड के सबसे टॉप पर होती है, कीबोर्ड पर यह keys F1 से F12 तक होती है, फंक्शन key का उपयोग विशेष प्रकार के कार्य को करने के लिए किया जाता है।

जैसे की ब्राइटनेस कम ज्यादा करने के लिए, कम्प्यूटर का वॉल्यूम कम ज्यादा करने के लिए, म्यूट करने के लिए और भी कई प्रकार के काम फंक्शन key द्वारे किये जाते है। 

Typing Keys

कीबोर्ड में सबसे ज्यादा जिन key का उपयोग होता है वह टाइपिंग keys है, टाइपिंग keys  में अल्फाबेट और न्यूमेरिक इन दोनों keys का उपयोग होता है जिसे अल्फान्यूमेरिक keys भी कहा जाता है।

टाइपिंग keys में सभी प्रकार के सिम्बल्स तथा punctuation marks भी शामिल होते है। 

Control Keys

इन keys को individually या कोई अन्य keys के साथ कॉम्बिनेशन करके एक विशिष्ट प्रकार का कार्य करने के लिए किया जाता है।

सभी प्रकार के कीबोर्ड में ज्यादातर Ctrl key, Alt key, Window key, Esc key का उपयोग कण्ट्रोल keys के रूप में किया जाता है

इसी के साथ Menu key, Scroll key, Pause Break key, PrtScr key इन keys का उपयोग भी control keys के रूप में किया जाता है। 

Navigation Keys

कम्प्यूटर  काम करते समय या फिर कोई भी गेम खेलते समय नेविगेशन key की जरुरत होती है।  बिना इन keys  के कोई भी कीबोर्ड अधूरा है।

नेविगेशन key में Arrow keys, Home, End, Insert, Page Up, Delete, Page Down keys का समावेश होता है। यह key user को डॉक्यूमेंट या वेब पेज को up down करने में मदद करता है। 

Indicator Lights

आप कोई भी प्रकार का कीबोर्ड इस्तेमाल कर लीजिए उसमे आपको तीन प्रकार की इंडिकेटर लाइट देखने को मिलेगी। इन तीन लाइट में Num Lock, Scroll Lock और Caps Lock का समावेश होता है।

Num लॉक की लाइट अगर आपको on दिखती है इसका मलतब है की आप नंबर को टाइप कर सकते है अगर ये लाइट बंद है तो आप नंबर को टाइप नहीं कर सकते। उसके बाद scroll Lock अगर इसकी लाइट on है तो आप स्क्रॉल के बारे मे संकेत देती है

और तीसरी है caps lock अगर इसमें आपको लाइट on दिखती है तो आपके सभी अल्फाबेट कैपिटल लेटर में टाइप होंगे यह आपको लेटर को कैपिटल और स्माल के बारे में जानकारी देते है। 

Numeric Keypad

न्यूमेरिक कीपैड में आपको 0 से लेकर 9 तक के डिजिट देखने को मिलेंगे, अगर आप कोई डिजिट टाइप कर रहे है या फिर कोई calculation कर रहे है तो आपको यह नुम्बेरीक कीपैड नंबर टाइप करने में मदद करता है। 

Conclusion 

कम्प्यूटर वर्ल्ड में कीबोर्ड एक एक महत्वपूर्ण अंग है, कीबोर्ड के स्थान को कोई भी रेप्लस नहीं कर सकता, आज के इस आर्टिकल में हमने जाना की कीबोर्ड क्या होता है. कीबोर्ड के प्रकार कितने है, shortcut key के बारे मे, कीबोर्ड के यूसेज क्या क्या है इत्यादि। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो और आपको कुछ नया सिखने को मिला हो तो इस पोस्ट पर कमेंट के जरिया आप हमें बता सकते है। 

FAQs: 

प्रश्न 1: कीबोर्ड के बटन को क्या कहते हैं

उत्तर: कीबोर्ड दिखने में एक टाइप राइटर की तरह होता है और इसमें सभी अल्फाबेट्स मौजूद होते है, सभी अल्फाबेट्स बटन पर प्रिंट किये हुए रहते इन बटन को key कहते है। 

प्रश्न 2: कीबोर्ड का आविष्कार किसने किया

उत्तर: कीबोर्ड का अविष्कार क्रिस्टोफर लैथम शोलेज (Christopher Lathom Sholes) ने किया था। 

प्रश्न 3: कीबोर्ड में टोटल कितने बटन होते हैं

उत्तर: डेली रूटीन में जो कीबोर्ड का इस्तेमाल हम सभी करते है उनमे 104 बटन यानि की keys होते है, लेकिन कीबोर्ड के प्रकार के हिसाबसे कोई कोई कीबोर्ड इससे कम बटन भी हो सकते है। 

Leave a Comment